Biography

श्रृद्धेय आचार्य विपिन कृष्ण जी महाराज का जन्म 10 अक्टूबर 1988 को गालव ऋषि की तपोभूमि, ग्वालियर में हुआ बचपन से श्री आचार्य जी को देखकर ऐसा लगता था कि इन पर ठाकुर जी की विशेष कृपा है आचार्य जी के बड़े दादा जी गोलोक वासी श्री कुंज बिहारी जी महाराज भागवत एवं ज्योतिष के प्रकाण्ड विद्वानों में से एक थे इन्हीं की कृपा विलासिता से कई बार आचार्य जी बचपन मैं उन्होंने अपना दर्शन करवाया एवं अपनी इस वंश परम्परा को आगे बढ़ाने की प्रेरणा दी जो संकेत आचार्य जी को स्पप्न में होते थे उनका जिक्र आचार्य जी घर पर करते थे तो पता चलता था कि ये सब सत्य घटनायें हैं। है ं।

स्मय रहते आचार्य जी के पिता जी श्री राकेश तिवारी एवं माता जी मिथलेश तिवारी जी ने इन्हें 8 वर्ष की आयु में बृज के ठाकुर श्री बांके बिहारी जी की पावन धरा पर अध्ययन के लिए भेजा जहाँ आपने अनेकोनेक विद्वानों के सानिध्य में रहकर भागवत एवं ज्योतिष का पूर्ण अध्ययन किया एवं बृज के दर विद्वान हरिदासीय सम्प्रदायाचार्य श्रृद्धेय आचार्य गोस्वामी गौरव कृष्ण जी महाराज से गुरूमंत्र दीक्षा सम्पन्न की एवं 15 वर्ष की आयु में आचार्य जी जब पुनः अपनी जन्मभूमि पर लौटे तो जन-जन में उन्होंने भागवत का प्रचार प्रसार किया वो भी पूर्णतः निशुल्क और आज बांके बिहारी की कृपा विलासिता से पंजाब, हरियाणा हिमाचल, झांसी, कानपुर, उरई एवं सम्पूर्ण भारत में भागवत जी के अनेकोनेक अनुष्ठान सम्पन्न किये साथ ही ज्योतिष के माध्यम से कई भक्तों के कष्ट भी दूर किये। े।

आप जब हिमाचल से कथा करके लौट रहे थे तो रास्ते में एक तड़पती हुई गाय को देखा गाड़ी रूकवाकर जब उसके पास गए तो उसकी इस हालत पर बहुत दुखी हुए तब आपने दीन-दुखियों एवं गौ रक्षा का संकल्प लिए और एक समिति का गठन किया ’’राधा रानी धर्मार्थ एवं गौ रक्षा सेवा समिति’

जो भी भक्त आचार्य जी के इस संकल्प मैं सहायतार्थ दान देना चाहता हो वो आचार्य जी से सीधे सम्पर्क कर सकता है। है।



ःःकार्यालयःः

सिटी सेन्टर साइट नं. 1
ग्वालियर (म.प्र.)
मो0 9179327892, 8435731600

ःःनिवासःः

आकाशवाणी केन्द्र के पास
ठाठीपुर गांव गांधी रोड़, ग्वालियर
मो0 8962501386, 9179646369



बृज धूरहि प्राणों से प्यारी लगे
बृज मण्डल माहि बसाय रहो
हे बांके बिहारी यहि विनती
मेरे नयनो से नयना लड़ाय रहो

राधा रानी धर्मार्थ एवं गौ रक्षा सेवा समिति (रजि0)